एक नए अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि योग से न सिर्फ माइग्रेन के दर्द में आराम मिलता है बल्कि इसके इलाज पर आने वाले खर्च में भी कमी आ सकती है। एम्स द्वारा किया गया यह अध्ययन अमेरिकी न्यूरोलॉजी अकादमी की पत्रिका ‘न्यूरोलॉजी’ में प्रकाशित हुआ है। एम्स के एक बयान में यह जानकारी दी गई है। यह बयान 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस से पहले आया है। इस नए अध्ययन में कहा गया है कि योग माइग्रेन से पीड़ित लोगों की मदद कर सकता है और इससे होने वाले सिरदर्द में आराम पहुंचाता है।

[A new study has revealed that yoga not only provides relief in the pain of migraine but may also reduce the cost of its treatment. This study by AIIMS has been published in the journal ‘Neurology’ of the American Academy of Neurology. This information is given in an AIIMS statement. The statement comes ahead of International Yoga Day on 21 June. This new study says that yoga can help people suffering from migraines and relieve headaches.]

अध्ययन के अनुसार, ”माइग्रेन का इलाज दवाओं से किया जाता है, लेकिन दवाइयां लगभग आधे रोगियों पर ही असर कर पाती हैं। कई दवाइओं के नकारात्मक प्रभाव भी होते हैं, जिनके चलते लगभग 10 प्रतिशत रोगी उनका सेवन बंद कर देते हैं।” अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के बयान में कहा गया है, ”इसके (अध्ययन के) नतीजे बताते हैं कि योग न केवल माइग्रेन के दर्द को कम कर सकता है बल्कि इससे इसके इलाज पर होने वाला खर्च भी कम हो जाता है। यह माइग्रेन के इलाज के लिये योग के मूल्यांकन का अब तक का इस प्रकार का सबसे बड़ा परीक्षण है।

[According to the study, “Migraine is treated with medicines, but medicines affect only half the patients.” Many medicines also have negative effects, which causes about 10 percent of patients to stop consuming them. “The (Indian) Institute of Medical Sciences (AIIMS) statement said that its (study) results showed that yoga Not only can it reduce the pain of migraine, but it also reduces the cost of its treatment. This is the largest such test of the evaluation of yoga for the treatment of migraine.]

अध्ययन के दौरान ऐसे 114 लोगों के दो समूह बनाए गए, जो आकस्मिक माइग्रेन से पीड़ित थे। अध्ययन में कहा गया है कि पहले समूह ने अपने डॉक्टरों की सलाह के अनुसार पारंपरिक चिकित्सा पद्धति अपनाई जबकि दूसरे समूह ने पारंपरिक इलाज के साथ-साथ योगाभ्यास भी किया, जिसमें व्यायाम, ध्यान और योगासन शामिल हैं। योग करने के नियम एम्स के सेंटर फॉर इंटिग्रेटिव मेडिसिन एंड रिसर्च (सीआईएमआर) में योग चिकित्सकों ने तैयार किए थे। इस दौरान रोगियों को सीआईएमआर के योग चिकित्सकों की निगरानी में एक महीने हर सप्ताह तीन दिन एक-एक घंटे योग सिखाया गया।

[During the study, two groups of 114 people who were suffering from accidental migraine were formed. The study noted that the first group adopted traditional medical practice as advised by their doctors, while the second group practiced yoga along with traditional treatment, including exercise, meditation and yoga. The rules of yoga were formulated by yoga practitioners at AIIMS Center for Integrative Medicine and Research (CIMR). During this time, patients were taught yoga for one hour each day three days a week under the supervision of Yoga practitioners of CIMR.]

इसके बाद उन्होंने अपने घरों में दो महीने तक सप्ताह में पांच दिन इसका अभ्यास किया। अध्ययन में पाया गया कि दोनों समूहों के लोगों के सिरदर्द की आवृति और तीव्रता में कमी आई। इस दौरान योग करने वाले समूह को ज्यादा आराम मिला। अध्ययन में कहा गया है, ”योग करने वाले समूह में अध्ययन से पहले सिरदर्द की मासिक औसत आवृति 9.1 थी, जो अध्ययन के अंत में घटकर 4.7 प्रतिमाह रह गई ।

[He then practiced it five days a week for two months in his home. The study found that the frequency and intensity of headaches for people in both groups decreased. During this time the yoga group got more rest. The study says, “In the yoga group, the monthly average frequency of headaches before the study was 9.1, which decreased to 4.7 per month at the end of the study.]

इस तरह उनके सिरदर्द की मासिक औसत आवृति में 48 प्रतिशत की गिरावट आई।” एम्स के बयान में कहा गया है, ”केवल दवाओं का सेवन करने वाले समूह के बीच अध्ययन से पहले सिरदर्द की मासिक औसत आवृति 7.7 प्रतिशत थी, जो तीन महीने बाद घटकर 6.8 रह गई। इस तरह इसमें केवल 12 प्रतिशत की कमी आई।’

[In this way, the monthly average frequency of their headaches dropped by 48 percent. “The AIIMS statement said,” The monthly average frequency of headaches before the study was 7.7 percent among the group consuming the drugs, which was three. Months later it was reduced to 6.8. In this way it decreased by only 12 percent. ‘]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here