देश के दिग्गज कारोबारी रतन टाटा ने ऑनलाइन जगत में फैल रही नफरत और ट्रोलिंग के मामलों को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि हमें एक-दूसरे के खिलाफ नफरत फैलाने की बजाय चुनौतियों से भरे इस साल में एक-दूसरे का समर्थन करना चाहिए। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम पर रतन टाटा ने कहा कि ऑनलाइन समुदाय एक-दूसरे के लिए हानिकारक हो रहे हैं और एक-दूसरे को नीचे ला रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह वर्ष किसी न किसी स्तर पर सभी के लिये चुनौतियों से भरा है। मैं ऑनलाइन समुदाय को एक-दूसरे के लिए हानिकारक होते हुए देख रहा हूं। लोग त्वरित राय बनाकर एक-दूसरे को नीचा दिखा रहे हैं।

[The country’s veteran businessman Ratan Tata has expressed concern about the cases of hate and trolling spreading in the online world. He said that instead of spreading hatred against each other, we should support each other in this year full of challenges. On social media platform Instagram, Ratan Tata said that online communities are becoming harmful to each other and bringing each other down. He said that this year is full of challenges for all at some level. I see the online community being harmful to each other. People are degrading each other by making quick opinions.]

प्रतिष्ठित कारोबारी रतन टाटा ने कहा, ‘मेरा मानना है कि यह वर्ष विशेष रूप से हम सभी के लिए एकजुट और मददगार होने का आह्वान करता है और यह एक-दूसरे को नीचे गिराने का समय नहीं है।’ एक-दूसरे के प्रति अधिक संवेदनशीलता का आग्रह करते हुए उन्होंने अधिक दयालुता, अधिक समझ और धैर्य की आवश्यकता को दोहराया।

[Eminent businessman Ratan Tata said, ‘I believe that this year specifically calls for all of us to be united and helpful and this is not the time to knock each other down.’ Urging more sensitivity towards each other, they reiterated the need for more kindness, more understanding and patience.]

टाटा ने कहा कि उनकी ऑनलाइन उपस्थिति सीमित है, लेकिन मुझे वास्तव में उम्मीद है कि यह सदाशयता के स्थान के तौर पर विकसित होगा और नफरत व बदमाशी के बजाय यहां हर किसी का समर्थन किया जाएगा।

[Tata said his online presence is limited, but I really hope that it will grow into a place of virtue and support everyone here instead of hatred and bullying.]

रतन टाटा अकसर सोशल मीडिया पर अपनी राय खुलकर जाहिर करते रहे हैं। पिछले दिनों केरल में एक गर्भवती हथिनी को विस्फोटक देकर मारे जाने के मामले में भी उन्होंने खुलकर अपनी राय जाहिर की थी। रतन टाटा ने लिखा था, ‘मैं बेहद दुखी और आश्चर्यचकित हूं कि लोगों का एक समूह बेजुबान जानवर की मौत का कारण बना है। इस तरह का कृत्य किसी अन्य व्यक्ति की हत्या किए जाने के बराबर ही है। न्याय की जरूरत है।’ गौरतलब है कि कोरोना संकट से निपटने के लिए भी रतन टाटा आगे आए हैं और समूह की ओर से 1,500 करोड़ रुपये की रकम पीएम केयर्स फंड में जमा कराई है।

[Ratan Tata has often been openly expressing his views on social media. He had also openly expressed his opinion in the case of a pregnant elephant being killed in Kerala by explosives. Ratan Tata wrote, ‘I am deeply saddened and surprised that a group of people have caused the death of an unruly animal. Such an act is equivalent to killing another person. Justice is needed. Significantly, Ratan Tata has also come forward to deal with the Corona crisis and deposited Rs 1,500 crore in the PM Cares Fund on behalf of the group.]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here