एक्टर सोनू सूद (Actor Soni Sood) की हर तरफ तारीफें हो रही हैं. उन्होंने अब तक हजारों प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को बसों (Buses) के जरिए उनके घर भेजा है. इस दौरान उन्होंने उनके खाने पीने की भी व्यवस्था की. उन्होंने एयर एशिया इंडिया (Air Asia India) के एक विमान से मुंबई (Mumbai) से 173 प्रवासी श्रमिकों (173 Migrant Students)को उनके घर उत्तराखंड भेजा है. एयरएशिया इंडिया के प्रवक्ता ने बताया कि एयरबस ए320 मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से शुक्रवार दोपहर करीब एक बजकर 57 मिनट पर 173 प्रवासी श्रमिकों को लेकर रवाना हुई.(Airbus A320 departed from Chhatrapati Shivaji Maharaj International Airport in Mumbai at around 57 minutes on Friday afternoon carrying 173 migrant workers)

प्रवक्ता ने बताया कि विमान शाम चार बजकर 41 मिनट पर देहरादून के जौली ग्रांट हवाई अड्डे पर उतरा. इसके बाद सोनू सूद ने कहा कि एक और चार्टर्ड विमान के उड़ान भरने के साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे प्रवासी श्रमिकों की मदद करने की हमारी कोशिश और मजबूत हुई है.

उन्होंने कहा, ‘इनमें से ज्यादातर को कभी विमान से यात्रा करने का मौका नहीं मिला था, और अपने घर-परिवार तक पहुंचने के लिए जब वे एयर एशिया इंडिया के विमान में प्रवेश कर रहे थे तो उनके चेहरे की खुशी देखने लायक थी.’

पहले भी पहुंचाए 167 महिला श्रमिक

आपको बता दें कि इससे पहले सूद ने केरल में फंसे 167 प्रवासी महिला श्रमिकों को चार्टर्ड विमान से ओडिशा भेजा था. ये सभी 167 महिलाएं कोच्चि की एक फैक्टरी में सिलाई-कढ़ाई का काम करती थी. कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के चलते इनकी फैक्टरी बंद हो गई और ये लोग इधर-उधर भटक रहे थे. पहले ही हजारों प्रवासी मजदूरों की मदद कर चुके सोनू ने इन महिलाओं की मदद की.

हर प्रवासी मजदूरों के घर भेजना चाहते हैं सोनू सूद

आपको बता दें कि सोनू सूद ने अपने पैसों से बसें बुक करके उन प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने का काम शुरू किया. जिसके बाद अब हजारों की तादात में सोनू लोगों को उनके घर भेज चुके हैं. इस बारे में सोनू सूद का कहना है, ‘जब तक हर एक प्रवासी मजदूर अपने घर नहीं पहुंच जाता अपनी मुहिम को जारी रखूंगा. इसके लिए चाहे कितना भी काम और मेहनत करनी पड़े. अंतिम मजदूर के उसके घर पहुंचने तक चैन से नहीं रह सकता.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here