अब एक बार फिर सैफ अली खान ने इसे लेकर बात की है और बताया है कि वो खुद भी इसका शिकार रह चुके हैं लेकिन कोई इस बारे में बात नहीं करता.

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही फिल्म इंडस्ट्री में लगातार नेपोटिज्म को लेकर चर्चा की जा रही है. इसे लेकर सैफ अली खान जो कि खुद एक स्टार किड हैं और अब उनकी बेटी सारा अली खान भी फिल्मों में डेब्यू कर चुकी हैं, ने इसे लेकर कई अहम बातें शेयर की हैं. अब एक बार फिर उन्होंने इसे लेकर बात की है और बताया है कि वो खुद भी इसका शिकार रह चुके हैं लेकिन कोई इस बारे में बात नहीं करता.

सैफ ने कहा, ”देश में गैरबराबरी है और इसे सामने लाने की जरूरत है. नेपोटिज्म, फेवरेटिज्म और कैंप्स ये अलग विषय हैं. यहां तक कि मैं भी नेपोटिज्म का शिकार रहा हूं लेकिन इसके बारे में कोई बात नहीं करता. मैं खुश हूं कि फिल्म इंडस्ट्री से ज्यादा से ज्यादा लोग इसे लेकर सामने आ रहे हैं.”

सैफ अली खान ने सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा में कैमियो किया है. उन्होंने सुशांत को लेकर कहा, ”वो बहुत ही टैलेंटेड गुड लुकिंग एक्टर थे. मुझे लगता था कि उनका फ्यूचर बहुत ब्राइट होगा. वो मेरे साथ बहुत पोलाइट थे और मेरी गेस्ट अपीरियंस से खुश भी था. वो कई विषयों के बारे में बात करता था जिनमें एस्ट्रोनॉमी और फिलॉस्फी शामिल है. मुझे ऐसा लगता था कि वो मुझसे भी ज्यादा जानता था. ”

सैफ अली खान इससे पहले भी कई बार बॉलीवुड में नेपोटिज्म पर अपनी बेबाक राय रख चुके हैं. हाल ही में उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर दुख जताने वाले सेलेब्स को ढोंगी बताया था. उन्होंने कहा था कि उनके जिंदा रहते किसी ने उनकी केयर नहीं की और अब  दिखावा कर रहे हैं. साल 2017 में भी एक अवॉर्ड शो में वरुण धवन और करण जौहर को मिले अवार्ड पर उन्होंने कमेंट किया था, ‘नेपोटिज्म रॉक.’ इसके बाद उन्होंने ओपन लेटर में बताया था कि बॉलीवुड में कितना भाई-भतीजावाद है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here