इस्लामाबादः आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान (Pakistan) में कोविड-19 (COVID-19) महामारी की वजह से 30 लाख नौकरियां जाने की आशंका है (30 Lakh jobs expected to be lost) । देश के वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने शुक्रवार (Monday) को यह जानकारी दी। महामारी के कारण अर्थव्यवस्था को हुए अनुमानित नुकसान के बारे में सीनेटर मुश्ताक अहमद के सवाल के जवाब में वित्त मंत्रालय ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में 10 लाख नौकरियां (10 Lakh Jobs) और सेवा क्षेत्र में 20 लाख (20 Lakh Jobs) नौकरियां जाने की संभावना है।

मंत्रालय ने पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स के अध्ययन का हवाला दिया और कहा कि कृषि, सेवा और औद्योगिक क्षेत्रों की अनुमानित एक करोड़ 80 लाख नौकरियों में कई नौकरियां इस महामारी के कारण चली जाएंगी।

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के चार हजार 896 नये मामले सामने आने के साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या बढ कर 89 हजार 249 हो गयी है। देश में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ कर 1838 हो गयी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी।

पाकिस्तान के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाओं के मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 68 लोगों की मौत हो चुकी है जिससे मरने वालों की संख्या बढ कर एक हजार 838 हो गयी है। मंत्रालय ने यह भी बताया कि देश में वायरस की चपेट में आये 31 हजार 198 लोगों का सफल इलाज हो चुका है।

पाकिस्तान में मई के आखिर में ईद के अवकाश के बाद यह लगातार यह तीसरा दिन है जब रिकार्ड संख्या में कोरोना वायरस के संक्रमित मामले सामने आये हैं। ईद के मौके पर लॉकडाउन में छूट दी गयी थी।

सबसे अधिक संक्रमित सिंध प्रांत में है जहां 33, 536 लोग संक्रमित हैं । इसके बाद पंजाब, खैबर पख्तुनख्वा, बलूचिस्तान, इस्लामाबाद, गिलगित बाल्तिस्तान एवं पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का नंबर आता है जहां कोरोना वायरस संक्रमण के क्रमश: 33144, 11890, 5582, 3946, 852 तथा 299 मामले हैं।

मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में 22812 लोगों की जांच की गयी है जो एक रिकार्ड है। देश में अब तक 60,38,323 लोगों के नमूनों की जांच की जा चुकी है। इस बीच अमेरिकी दूतावास के वरिष्ठ अधिकारी में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुयी है।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबरों में शुक्रवार को कहा गया है कि मंगलवार को यह मामला सामने आया था और अमेरिका के उप राजदूत ने ईमेल से कर्मचारियों को इसकी जानकारी दी। इस बीच दूतावास के प्रवक्ता ने बयान जारी कर कहा कि संक्रमित राजनयिक के नाम का खुलासा नहीं किया जायेगा। प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका का विदेश विभाग अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिये जिम्मेदार है, चाहे वह जहां कहीं भी हों।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here