कोरोना काल में राजधानी में अपराध का ट्रेंड साइबर क्राइम की तरफ तेजी से बढ़ा। साइबर क्राइम में भी सबसे ज्यादा मामले डेबिट-क्रेडिट कार्ड से जुड़े धोखाधड़ी के रहे। कोरोना काल में ऑनलाइन बैकिंग का क्या बढ़ी, साइबर बदमाशों ने ऑनलाइन वारदात बढ़ा दी। दिल्ली में हुए साइबर अपराध में से करीब 21 फीसदी मामलों में तो बदमाशों ने लोगों के साथ डेबिट-क्रेडिट कार्ड के जरिए ठगी की है।

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में जितने साइबर अपराध होते हैं, उनमें से 57 फीसदी हिस्सा फिशिंग ई-मेल या सोशल इंजीनियरिंग का होता है। इस तरह के क्राइम में लोगों या कंपनियों को फिशिंग ई-मेल या मैसेज भेजे जाते हैं और जैसे ही उस मेल या मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक किया जाता है, तो सारी निजी जानकारी साइबर अपराधी हासिल कर लेता है।

इसके बाद वह आसानी से रुपये उड़ा ले जाता है।

दिल्ली में टॉप-5 मामले

1. डेबिट/क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी के मामले – 21%
2. ई-वॉलेट संबंधित धोखाधड़ी के मामले- 16%
3. धोखाधड़ी कॉल/विशिंग के मामले – 13%
4. इंटरनेट बैंकिंग संबंधित धोखाधड़ी के मामले- 7.4%
5. नकली प्रोफाइल से वारदात – 6%
अन्य प्रकार के (मिसलेनियस) –36.6%

इस साल दोगुने से ज्यादा बढ़ गई वारदात
वर्ष कुल मामले

2020 (15 जून तक) – 12,999
2019 (15 जून तक) – 5761

क्या कहना है साइबर एक्सपर्ट का

जाने-माने साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल का कहना है कि ज्यादातर लोग डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल तो कर रहे हैं, लेकिन साइबर सुरक्षा से जुड़ी सावधानी नहीं बरत रहे हैं। साइबर अपराधियों से बचने के लिए जरूरी है कि डिजिटल सावधानी का पर पूरा ध्यान दें। सिक्योरिटी फीचर्स का खास ख्याल रखें।

पुलिस की क्या है एडवाइजरी

– किसी भी संदिग्ध ई-मेल को खोलने से बचें और सोशल मैसेजिंग ऐप सहित अन्य दूसरे ऑनलाइन माध्यमों से आने वाली सूचनाएं और लिंक को बिना जांच-पड़ताल के नहीं खोलें।

– सोशल मीडिया और बैंकिंग गतिविधियों के लिए मजबूत पासवर्ड और बहुस्तरीय विकल्प का उपयोग करें। किसी अनजान से व्यक्तिगत डिटेल न साझा करें।

– एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर सहित अपने सॉफ़्टवेयर को अपडेट रखें। ऑनलाइन सुरक्षित रहने के तरीके के बारे में अपने परिवार, विशेषकर अपने बच्चों को शिक्षित करें

– मदद के नाम पर किसी भी संस्था को पैसे दान करने से पहले चैरिटी फंड से जुड़ी उस संस्था की जांच-पड़ताल जरूर करें।

– किसी ईमेल, लिंक, वेबसाइट या फिर फोन कॉल पर आपको थोड़ा भी संदेह हो तो तत्काल दिल्ली पुलिस को सूचित करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here