डेंगू गर्मी तथा बारिस के समय काफी तेज़ी से फैलती है, आपको बता दे कि यह बीमारी मच्छरों के काटने पर फैलती हैं। यह ज्यादात्तर उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में अधिक पाये जाते है और इसके अलावा यह उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में भी अधिक पाये जाते हैं। आपको जानकारी के लिए बता दे कि यह एक प्रकार की संक्रामक बीमारी है और खतरनाक भी है। इससे मरीज के तेज बुखार होता है। अब इसके बारे में अन्य सारी जानकारी आपको विस्तार से देते है-

यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नही होता है।

लेकिन एक संक्रमित मच्छर से काटने पर एक से अधिक लोगों में हो सकता है। मच्छर डेंगू से पीड़ित व्यक्ति ढंक मारता है तो वो साथ में खून भी लेता है ऐसे में उस मरीज़ का खून डेंगू से संक्रमित हो जाता है और यह दूसरे को काटता है तो उसको भी हो जाता है।

इसमें चार तरह के वायरस होते है, यह वायरस एडीज़ एजिप्टी या फिर एडीज़ एल्बोपिक्टर मच्छर से फैलता है। यह बीमारी उन इलाकों में फैलती है, जहां अधिक मच्छर होते है। इसके लक्षण की बात करें तो इसके लक्षण तीन से दस दिन में दिखने लग जाते है।

इनसे बचने के लिए पैरो व हाथों को ढक कर सोना चाहिए या फिर बाजार में उपलब्ध क्रीम को हाथ पैरों के लगाकर सोना चाहिए, जिससे की मच्छर ना काटे। जिस क्षेत्र में मच्छर रहते है वहा जानें से बचे और आप मच्छर दानी का उपयोग भी कर सकते हो। सबसे बड़ी बात है कि इसका बचाव ही इसका इलाज है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here