उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के परिषदीय स्कूलों की 69000 शिक्षक भर्ती (69000 teacher 69000 teacher Recruitment) में विवाद बढ़ता ही जा रहा है। पहले हाईकोर्ट ने भर्ती पर रोक लगा दी तो वहीं अब लिखित परीक्षा में उम्दा अंकों से उत्तीर्ण करने वाली अर्चना तिवारी का अंकपत्र शुक्रवार को सोशल मीडिया में वायरल हो गया। अंकपत्र वायरल होने का मुख्य कारण अर्चना का ओबीसी वर्ग में परीक्षा उत्तीर्ण करना है। सभी हैरान हैं कि जो अभ्यर्थी नाम से सामान्य वर्ग की है उसका चयन ओबीसी वर्ग में कैसे हो गया?

वहीं बेसिक शिक्षा परिषद ने उसके गुणांक के आधार पर गृह जिला आजमगढ़ आवंटित भी कर दिया है। वहीं परीक्षा संस्था का कहना है कि उसके मूल आवेदनपत्र में ही ओबीसी वर्ग दर्ज है।

इसीलिए अंकपत्र में वही लिखा गया है। अब अभ्यर्थी को काउंसिलिंग में ओबीसी वर्ग का प्रमाणपत्र दिखाना होगा, तभी नियुक्ति मिलेगी। बेसिक शिक्षा परिषद की शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा का परिणाम आने के बाद से प्रतियोगी तमाम अंकपत्र लगातार वायरल हो रहे हैं।

साथ ही परीक्षा में अच्छे अंक पाने वालों पर नित नए सवाल उठाए जा रहे हैं। उन प्रकरणों का ठोस आधार न होने से वे सुर्खियां नहीं बन सके। शुक्रवार को अर्चना तिवारी का अंकपत्र वायरल हुआ। अर्चना पुत्री जगदीश प्रसाद का लिखित परीक्षा में पंजीकरण संख्या 4900098460 व अनुक्रमांक 49490804207 रहा है।

शिक्षक भर्ती परीक्षा में अर्चना तिवारी ने 150 में से 114 अंक अर्जित किए हैं। अंकपत्र में अर्चना का वर्ग ओबीसी लिखा है। यह देखकर आम अभ्यर्थियों में हड़कंप मच गया। इतना ही नहीं एक जून को बेसिक शिक्षा परिषद ने उसे गृह जिला आजमगढ़ आवंटित भी कर दिया है, 69000 चयन सूची में उसकी रैंक 13520वीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here