देश में कोरोना वायरस [Corona Virus] से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर [Indore] में इस महामारी का प्रकोप कायम है। जिले में पिछले 24 घंटे[24 Hours] के दौरान कोविड-19 [COVID-19] के 87 नए मामलों की पुष्टि के साथ ही इस संक्रमित मरीजों की तादाद 3,344 से बढ़कर 3,431 हो गई है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) प्रवीण जड़िया ने शनिवार [Saturday] को यह जानकारी दी। उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमित 54 वर्षीय महिला समेत तीन मरीजों की अलग-अलग अस्पतालों में इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद जिले में इस महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 129 पर पहुंच गई है।

40 दिनों के बाद मौत का खुलासा अधिकारियों के मुताबिक इनमें शामिल 50 वर्षीय पुरुष ने शहर के एक निजी अस्पताल में 19 अप्रैल को दम तोड़ा था।

लेकिन उसकी मौत की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के शुक्रवार (29 मई) को देर रात जारी मेडिकल बुलेटिन में दी गई यानी इस मौत का खुलासा 40 दिन बाद किया गया।

इस देरी के बारे में पूछे जाने पर सीएमएचओ ने कहा कि हमें कोविड-19 [COVID-19] से 50 वर्षीय पुरुष की मौत की जानकारी निजी अस्पताल से शुक्रवार को ही मिली। हम अस्पताल को नोटिस जारी कर जवाब तलब करेंगे कि इस मामले की सूचना देरी से क्यों दी गयी?

जिले में कोविड-19 [COVID-19] से मरने वाले लोगों का आधिकारिक ब्योरा देरी से दिए जाने को लेकर स्वास्थ्य विभाग पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। गैर सरकारी संगठनों का आरोप है कि विभाग इन मौतों का खुलासा अपनी सुविधानुसार कर रहा है।

कोविड-19 [COVID-19] का प्रकोप कायम रहने के कारण मद्देनजर इंदौर जिला रेड जोन में बना हुआ है। जिले में इस प्रकोप की शुरुआत 24 मार्च से हुई, जब पहले चार मरीजों में इस महामारी की पुष्टि हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here