कोरोनावायरस के कारण कई देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज स्थगित हो चुकी हैं, जबकि आईपीएल भी अनिश्चितकाल के लिए टाला गया है. रवि शास्त्री का मानना है कि इन्हें प्राथमिकता मिलनी चाहिए.

कोरोनावायरस के कारण फिलहाल सभी देशों में क्रिकेट रुका हुआ है. इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में खिलाड़ियों की ट्रेनिंग शुरू करने का रोडमैप तैयार हो चुका है, तो वहीं भारत में अभी इस दिशा में कोई बड़ा कदम नहीं उठाया गया है. ऐसे में जब क्रिकेट फिर से शुरू हो तो प्राथमिकता किसे मिलनी चाहिए? भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री का मानना है कि वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट के बजाए शुरुआत में द्विपक्षीय सीरीज पर जोर देना चाहिए. कोरोनावायरस के कारण पहले ही इंडियन प्रीमियर लीग का ये सीजन स्थगित हो चुकी है, जबकि कई द्विपक्षीय सीरीज भी रद्द करनी पड़ी हैं. इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप पर भी खतरा मंडरा रहा है.
घरेलू क्रिकेट और द्विपक्षीय क्रिकेट पर हो जोर

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए शास्त्री ने कहा कि घरेलू क्रिकेट और द्विपक्षीय सीरीज को प्राथमिकता मिलनी चाहिए, क्योंकि ये कुछ ही मैदानों में पूरे हो सकते हैं. शास्त्री ने कहा, “मैं वर्ल्ड इवेंट पर ज्यादा जोर नहीं देना चाहूंगा. घर में रहिए और ये सुनिश्चित कीजिए कि घरेलू क्रिकेट सामान्य स्थिति में लौटे. अंतरराष्ट्रीय और फर्स्ट क्लास समेत सभी स्तर पर क्रिकेटर मैदान पर लौटें. ये सबसे जरूरी है. दूसरा, द्विपक्षीय सीरीज शुरू करें.”बयान के पीछे दिया ये कारण शास्त्री ने अपने बयान के पीछे तर्क दिया कि कई सारी टीमों के एक ही जगह पहुंचने के बजाए किसी एक टीम का एक देश पहुंचना बेहतर रहेगा. उन्होंने कहा, “अगर हमें वर्ल्ड कप के आयोजन और द्विपक्षीय दौरे में से किसी एक को चुनना होता, तो जाहिर तौर पर हम द्विपक्षीय सीरीज के लिए तैयार होते. 15 टीमों के एक साथ आने के बजाए, हम चाहते कि एक टीम आए और पूरी द्विपक्षीय सीरीज एक या दो ग्राउंड पर ही खेली जाए.” शास्त्री का ये बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि BCCI अपने सबसे अहम घरेलू टूर्नामेंट IPL के सीजन के लिए सही वक्त तलाश रहा है. माना जा रहा है कि अगर टी20 वर्ल्ड कप की तारीख आगे बढ़ाई जाती है, तो उस वक्त का इस्तेमाल IPL के आयोजन के लिए किया जा सकता है.

‘IPL को देनी चाहिए प्राथमिकता’शास्त्री ने IPL को प्राथमिकता देने की बात भी कही और कहा, “जब क्रिकेट वापस लौटता है, तो हम IPL को प्राथमिकता दे सकते हैं. एक अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट और IPL  में फर्क ये है कि IPL को सिर्फ एक या दो शहरों में खेला जा सकता है.” शास्त्री ने कहा कि इसी तरह द्विपक्षीय सीरीज भी एक-दो ग्राउंड में ही पूरी हो सकती है और ICC को इस ओर विचार करना चाहिए. शास्त्री के बयान के साथ ही ऐसी खबरें भी आई हैं कि ICC ऑस्ट्रेलिया में होने वाले पुरुषों के टी20 वर्ल्ड कप को स्थगित कर अगले साल के लिए टाल सकता है. अगर ऐसा होता है तो BCCI के पास IPL के आयोजन के लिए अच्छा मौका बन जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here