नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख [East Ladakh] में सोमवार रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए.[20 soldiers, including a colonel of the Indian Army, died in a violent clash with Chinese soldiers in the Galvan Valley on Monday night] पिछले पांच दशक से भी ज्यादा समय में सबसे बड़े सैन्य टकराव के कारण क्षेत्र में सीमा पर पहले से जारी गतिरोध और भड़क गया है.[The largest military confrontation in more than five decades has led to an already ongoing deadlock and flare up along the border in the region] सरकारी सूत्रों ने कहा है कि चीनी पक्ष के भी 43 सैनिक हताहत हुए हैं.[Government sources said 43 soldiers were also killed on the Chinese side]

सेना ने शुरू में कहा कि एक अधिकारी और दो सैनिक शहीद हुए. लेकिन, देर शाम बयान में कहा गया कि 17 अन्य सैनिक “जो अत्यधिक ऊंचाई पर शून्य से नीचे तापमान में गतिरोध के स्थान पर ड्यूटी के दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए थे, उन्होंने दम तोड़ दिया है.इससे शहीद हुए सैनिकों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है.”[The army initially said that one officer and two soldiers were martyred. But, the late evening statement said that 17 other soldiers “who were severely on duty at the place of stagnation in temperatures below zero at extreme altitudes”]

1967 के बाद दोनों सेनाओं के बीच सबसे बड़ा टकराव

साल 1967 में नाथू ला में झड़प के बाद दोनों सेनाओं के बीच यह सबसे बड़ा टकराव है.[This is the biggest confrontation between the two armies after the skirmish in Nathu La in 1967] उस वक्त टकराव में भारत के 80 सैनिक शहीद हुए थे और 300 से ज्यादा चीनी सैन्यकर्मी मारे गए थे.[At that time 80 Indian soldiers were killed in the confrontation and more than 300 Chinese military personnel were killed] इस क्षेत्र में दोनों तरफ नुकसान ऐसे वक्त हुआ है जब सरकार का ध्यान कोरोना वायरस संकट से निपटने पर लगा हुआ है.[The loss on both sides in this area has come at a time when the government is focused on dealing with the corona virus crisis]

15 जून की रात हुई झड़प- सेना

सेना के एक बयान में कहा गया, ”भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच गलवान क्षेत्र में जिस स्थान पर 15/16 जून की रात झड़प हुई, वहां से दोनों तरफ के सैनिक हट गए हैं.”[An army statement said, “The troops from both sides have withdrawn from the place where the skirmish between Indian and Chinese soldiers took place on the night of 15/16 June in Galvan region.”] इसमें यह नहीं बताया गया है कि सैन्यकर्मी किस प्रकार हताहत हुए हैं और दोनों पक्षों के बीच किसी तरह के गोलाबारी का भी उल्लेख नहीं किया गया है.[It does not mention how the casualties have been caused and there is no mention of any shelling between the two sides]

भारतीय सेना के सूत्रों ने बताया कि झड़प में हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया गया और अधिकतर जवान चीनी पक्ष द्वारा किए गए पथराव और लोहे की छड़ों के इस्तेमाल के कारण घायल हुए.[Sources in the Indian Army said weapons were not used in the skirmish and most of the soldiers were injured due to stone pelting and iron rods used by the Chinese side] झड़प में घायल हुए अधिकारी की पहचान 16वीं बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग अधिकारी कर्नल संतोष बाबू के तौर पर हुई. वह तेलंगाना के निवासी थे.[The officer injured in the clash was identified as Colonel Santosh Babu, the commanding officer of the 16th Bihar Regiment. He was a resident of Telangana]

मोदी ने की राजनाथ और अमित शाह के साथ उच्च स्तरीय बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शाम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमित शाह के साथ उच्च स्तरीय बैठक की.[Prime Minister Narendra Modi held a high-level meeting with Defense Minister Rajnath Singh and Home Minister Amit Shah in the evening] इस बैठक में पूर्वी लद्दाख में स्थिति की समग्र समीक्षा की गई.[This meeting reviewed the situation in East Ladakh overall] यह समझा जा रहा है कि भारत ने 3500 किलोमीटर की सीमा पर चीन के आक्रामक रवैये से निपटने के लिए दृढ़ रुख जारी रखने का फैसला किया है.[It is understood that India has decided to continue with a firm stand to deal with China’s aggressive attitude on the 3500 km border]

सैन्य सूत्रों ने बताया कि पूर्वी लद्दाख में चीनी वायु सेना की बड़ी गतिविधियां देखी गयी है.[Military sources said that major activities of Chinese Air Force have been seen in eastern Ladakh] दोनों देशों की सेनाओं ने झड़प के स्थान पर मेजर जनरल स्तरीय वार्ता की है.[The armies of the two countries have held major general-level talks in place of the skirmish] विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ”यथास्थिति को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास” के कारण हुई.[The Foreign Ministry said in a statement that the violent clash between the Indian and Chinese armies in eastern Ladakh was caused by “the Chinese side’s efforts to unilaterally change the status quo” in the area]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here