चीन में लगभग तीन हजार कोरोना संक्रमितों पर एक अध्यन किया गया है। जिसके अनुसार कोरोना वायरस उच्च रक्तचाप से पीड़ित मरीजों पर ज्यादा कहर बरपाता है। यही नहीं इस वायरस का खतरा सबसे ज्यादा उनमें होता है जो ब्लड प्रेशर नियंत्रण करने के लिए दवाओं का सेवन भी नहीं करते।

प्रोफेसर फे ली के नेतृत्व में हुए इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने वुहान के हुओ शेन शान हॉस्पिटल में भर्ती 2886 कोरोना मरीजों के स्वास्थय पर शोध किया। इनमें से 29.5 फीसदी यानी 850 मरीज ब्लड प्रेशर की समस्या से ग्रसित थे। जिनमें से इलाज के दौरान 4 फीसदी यानी 34 मरीजों ने वही दम तोड़ दिया।

शोध में बिना हाइपरटेंशन वाले मरीजों के मौत के आंकड़े सिर्फ 1.1 प्रतिशत थे। यह शोध ‘यरोपियन हार्ट जर्नल’ में प्रकाशित हुआ है।

जिसमें बताया गया है कि उम्र, लिंग और अन्य कारकों को मिलाकर ब्लड प्रेशर के मरीजों में खतरा 2.12 गुना अधिक और दवा न खाने वाले मरीजों में 2.17 गुना ज्यादा मिला है।

प्रोफसर ली कहते हैं, अध्ययन के नतीजे उच्च रक्तचाप से जूझ रहे मरीजों के लिए चेतावनी की तरह हैं। सकरी धमनियों के चलते उनमें कोरोना से लक्षण ज्यादा गंभीर हो सकते हैं। चीनी शोधकर्ताओं का यह अध्यन ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए कोरोना वायरस होने की सबसे अधिक संभावना को जन्म देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here