पुलवामा

पुलवामा के अयानगुंड इलाके में सुरक्षाबलों ने विस्फोटकों से भरी सैंट्रो कार को बरामद किया और उसे उड़ा दिया.

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जैसे हमले की एक और साजिश को नाकाम किया गया है. सेना ने पुलवामा के अयानगुंड इलाके में एक सैंट्रो कार में भारी मात्रा में विस्फोटकों को बरामद किया. इस कार में आईईडी का भी इस्तेमाल किया गया था. सुरक्षाबलों ने कार को संदिग्ध हालत में पाया और इसकी जांच की तो भारी मात्रा में विस्फोटक मिले.

कार को उसकी जगह से हटाकर कहीं और ले जाना संभव नहीं था इसलिए सुरक्षाबलों ने उस कार को वहीं पर नियंत्रित विस्फोट के जरिए उड़ा दिया. इस कार में इतने भारी मात्रा में विस्फोटक भरे हुए थे कि जब इसे उड़ाया गया तो आसपास के कई घरों को नुकसान पहुंचा और बड़े धमाके की आवाज सुनी गई.

जम्मू-कश्मीर के 122 कैदियों को होम मिनिस्टर अमित शाह का तोहफा, ईद पर परिवार से करवाई बात

जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने जानकारी दी कि पुलिस और सुरक्षाबलों को इस बात की सूचना मिली थी कि जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकी एक और आतंकी हमले की फिराक में हैं. इसके तहत ये जानकारी भी मिली थी कि सफेद सैंट्रो में एक्सप्लोसिव को लाया जा रहा है. आज जब पुलिस ने इलाके की जांच के दौरान संदिग्ध कार को देखा और उसका नंबर भी समान मिला तो उस गाड़ी को तुरंत घेर लिया गया. आतंकी गाड़ी छोड़ कर जा चुका था और कार में करीब 50 किलो विस्फोटक रखा गया था.

विजय कुमार ने जानकारी दी कि इस मामले की जांच की जा रही है और आतंकियों की खोज में पुलिस लगी हुई है. उन्होंने सीआरपीएफ और सेना को इस हमले की साजिश को नाकाम करने के लिए धन्यवाद भी दिया.

सुरक्षाबलों ने इस सफेद रंग की सैंट्रो कार को संदिग्ध हालत में अयानगुंड इलाके में बरामद करने के बाद पाया कि इसे उस जगह से हटाकर कहीं और ले जाने की कोशिश करने पर रास्ते में ही विस्फोट हो सकता है तो उन्होंने उसी जगह पर इसे नियंत्रित विस्फोट के जरिए उड़ा दिया. इससे पहले आसपाल के इलाके को खाली करा लिया गया क्योंकि गाड़ी में विस्फोटकों की मात्रा इतनी ज्यादा थी कि इससे तबाही मच सकती थी.

माना जा रहा है कि पुलवामा में 2019 जैसी एक और आतंकी साजिश को अंजाम देने के लिए इस कार का इस्तेमाल किया जाना था लेकिन सुरक्षाबलों की सतर्कता से इसे टाल दिया गया.

14 फरवरी 2019 को हुआ था पुलवामा में आतंकी हमला

पिछले साल 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर विस्फोटकों से भरी गाड़ी के जरिए आतंकी हमला किया गया था और इस हमले में देश के 40 जवान शहीद हो गए थे. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने आईईडी से भरी कार को सेना के काफिले से भिड़ा दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here