नई दिल्ली. अगर आपने अपने आधार कार्ड [Aadhar Card] को दुकान से लैमिनेशन कराया है या फिर उसे प्लास्टिक कार्ड के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं तो सावधान हो जाइए. UIDAI इसको लेकर कई बार चेतावनी जारी कर चुका है. UIDAI ने जो चेतावनी दी है उसमें ऐसा कहा गया है कि ऐसा करने से आपके आधार का क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या फिर निजी जानकारी चोरी हो सकती है. UIDAI का साफ कहना है कि ऐसा करने पर आपकी मंजूरी के बिना ही आपकी निजी जानकारी किसी और के पास पहुंच सकती हैं.

क्या है इसका नुकसान?

UIDAI ने प्‍लास्टिक आधार कार्ड के नुकसान बताते हुए एक बयान जारी किया था. इस बयान में अथॉरिटी ने कहा था कि प्‍लास्टिक आधार या फिर स्‍मार्ट आधार कार्ड का इस्‍तेमाल न करें. ऐसे कार्ड से आपकी आधार डिटेल्‍स की प्राइवेसी पर खतरा है. UIDAI का कहना है कि प्‍लास्टिक आधार कार्ड कई बार काम नहीं करता है. इसकी वजह है कि प्‍लास्टिक आधार की अनऑथराइज्‍ड प्रिन्टिंग के चलते QR कोड डिस्‍फंक्‍शनल हो जाता है. साथ ही आधार में मौजूद आपकी पर्सनल डिटेल्‍स के बिना आपकी अनुमति के शेयर किए जाने का भी खतरा है.

इतने पैसे खर्च कर बनता है प्लास्टिक आधार

बयान में कहा गया कि प्‍लास्टिक या पीवीसी शीट पर आधार की प्रिन्टिंग के नाम पर लोगों से 50 रुपये से लेकर 300 रुपये तक वसूले जा रहे हैं. कहीं-कहीं तो इससे भी ज्‍यादा चार्ज लिया जा रहा है. UIDAI ने लोगों से इस तरह की दुकानों या लोगों से बचने की और उनके झांसे में न आने की सलाह दी है.

ये आधार भी है वैलिड

UIDAI ने अपने बयान में इस बात पर भी जोर दिया है कि ओरिजनल आधार के अलावा एक साधारण पेपर पर डाउनलोड किया हुआ आधार और एमआधार पूरी तरह से वैलिड हैं. इसलिए आपको स्‍मार्ट आधार के चक्‍कर में पड़ने की जरूरत नहीं है. यहां तक कि आपको कलर्ड प्रिन्‍ट की भी जरूरत नहीं है. साथ ही आपको अलग से आधार कार्ड के लैमिनेशन या प्‍लास्टिक आधार कार्ड की जरूरत नहीं है. अगर आपका आधार खो गया है तो आप इसे मुफ्त में https://eaadhaar.uidai.gov.in से डाउनलोड कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here