भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) का ऑडियो क्लिप वायरल (Audio clip viral) होने के बाद मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सियासत गर्माई हुई है। सोशल मीडिया (Socal Media) में तेजी से वायरल (Viral) हो रहे सीएम के ऑडियो के बाद कांग्रेस (Congress) बीजेपी (Bjp) में आरोप-प्रत्यारोप (Counter charges) का दौर जारी है। कांग्रेस (Congress) नेता अजय सिंह (Ajay Singh) और सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) ने राजधानी भोपाल (Bhopal) में गुरुवार (Thursday) को प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) कर भाजपा (BJP) और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) पर जमकर निशाना साधा।

अजय सिंह ने आरोप लगाया कि सीएम शिवराज सिंह के वायरल ऑडियो के बाद इस बात की पुष्टि हो गई कि कमलनाथ सरकार अपने अंतर्कलह की वजह से नहीं बल्कि भाजपा के षडयंत्र के कारण गिरी।

इस बात पर मुहर सीएम शिवराज के इस वायरल ऑडियो ने लगा दी है। अजय सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में माफियाओं को बचाने और राज्यसभा में सीटें बढ़ाने के लिए कमलनाथ सरकार को गिराने की साशिज रची गई।


कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि मध्य प्रदेश और गुजरात में कांग्रेस के विधायक तोड़ने के बाद अब राजस्थान सरकार को अस्थिर करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है। कांग्रेस नेता अजय सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिराई गई, अब राजस्थान की गहलोत सरकार को अस्थिर करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है।

वही मध्य प्रदेश कांग्रेस ने इशारों इशारों में ही संकेत दिए कि वे इस पूरे मामले को लेकर कोर्ट जा सकती है। अजय सिंह के कहा कि कांग्रेस पार्टी सभी तरह के विकल्पों पर विचार कर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के षड्यंत्र की हकीकत जनता को बताएगी। पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा कि मौजूदा सरकार बिना कैबिनेट के प्रस्तावों को मंजूरी दिए सरकारी फंड का इस्तेमाल कर रही है। बीजेपी के शासन में प्रजातंत्र खतरे में है।

छत्तीसगढ़ में बीजेपी सांसद के बयान के बाद गर्माई सियासत 


इससे पहले छत्तीसगढ़ में बीजेपी की राज्यसभा सांसद सरोज पांडे के एक बयान की सियासी गलियारों में जमकर चर्चा हो रही है। सरोज पांडे के बयान के बाद छत्तीसगढ़ सरकार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है? लोगों में चर्चा होने लगी है कि क्या मंत्री, विधायकों और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बीच तालमेल ठीक नहीं है? क्या मध्य प्रदेश की तरह छत्तीसगढ़ में भी हालात बिगड़ रहे हैं।

सरोज पांडे के बयान के सियासी मायने 


राज्यसभा सासंद के बयान के कई प्रकार के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। उन्होंने राजनांदगांव में एक बयान दिया था जिसमें कहा था कि , ”छत्तीसगढ़ सरकार अपने ही लोगों के बीच में घिरी हुई है। सरकार को अपने ही लोगों का समर्थन नहीं है।” उन्होंने आगे कहा, ”ऐसे में ये सरकार कैसे चलाएंगे…मुझे लगता है कि इस सरकार का जीवन कम है और कितने दिन सरकार चलेगी ये कहा नहीं जा सकता है।


इस बयान पर जब मीडिया में सवाल उठे कि कहीं मध्य प्रदेश की तर्ज़ पर बीजेपी छत्तीसगढ़ में तो कोई विभीषण नहीं ढूंढ रही है तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि हम विभीषण बनाने नहीं जाते हैं। कांग्रेस को अपना घर संभालना चाहिए। विभीषण तो रावण ही पैदा करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here